हत्याकांड मामले में अनुसंधान से भटक रही मधेपुरा पुलिस, निर्दोष को थाने लाकर बर्बरता से की पिटाई, हालत गंभीर

4/17/2022 2:42:27 PM

मधेपुरा (राजीव रंजन): बिहार के मधेपुरा जिले में हत्या मामले को लेकर जबरन निर्दोष लोगों से गुनाह कबूल करवाया जाता है। साथ ही गुनाह कबूल नहीं करने पर पुलिस थाने में बेरहमी से पिटाई करती है। जी हां, ये हम नहीं कह रहे हैं बल्कि युवक के साथ हुई बेरहमी से पिटाई की तस्वीर बयां कर रही है। हालांकि इस मामले में पुलिस के आलाधिकारी अपनी गुनाह छुपाने को लेकर चुप्पी साधे हैं।

दरअसल, बिहारीगंज थाना क्षेत्र के जोतैली निवासी मनोहर मेहता की बीते दिनों अज्ञात अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी। वहीं इस हत्याकांड मामले में पुलिस के अब तक हाथ खाली हैं लेकिन बिहारीगंज पुलिस अंधेरे में तीर जरूर चला रही है। बताया जा रहा है बिहारीगंज पुलिस हत्या मामले को लेकर अनुसंधान से भटक रही है। पुलिस के आलाधिकारी के दबाव में जबरन निर्दोष युवक को पकड़-पकड़कर पूछताछ हेतु थाना लाया जाता है और जमकर लाठी डंडे से क्रूरता के साथ की पिटाई की जाती है।

इतना हीं नहीं, पिटाई के बाद पुलिस जबरन हत्या का गुनाह निर्दोष श्यामल मेहता पर मढ़ना चाहती है लेकिन पिटाई के बावजूद भी युवक अपने ऊपर या अन्य के ऊपर हत्या का गुनाह देना नहीं चाहता है। पीड़ित युवक और इनके मां बिलख कर कह रही है मेरा बेटा बेगुनाह है पुलिस पीट-पीटकर जबरन गुनाह कबूल करवाना चाह रही है और श्यामल मेहता पर हत्या का आरोप लगवाना चाहता है। अब पीड़ित सरकार से न्याय की भीख मांग रहे हैं। पीड़ित युवक का कहना है कि जब हमने हत्या की हीं नहीं है और किसी को हत्या करते देखा हीं नहीं है तो कैसे गुनाह कबूल करूं।

इसके बाद में पुलिस ने श्यामल मेहता को किसी तरह थाना में बुलाया और उनके साथ भी देर रात पिटाई की। हालांकि पिटाई के बाद स्थानीय लोगों के दबाव में पुलिस ने दोनों युवकों को थाना से छोड़ दिया है, लेकिन पुलिस पिटाई से युवक की हालत बिगड़ गई है। परिजनों ने युवक को स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती करवाया था, जहां प्राथमिक उपचार के बाद चिकित्सक बेहतर इलाज हेतु भेजा जेकेटीएमसीएच मेडिकल कॉलेज अस्पताल, जहां युवक की स्थिति देख कर आप भी भौंचक रह जाएंगे। फिलहाल युवक की स्थिति नाजुक बताई जा रही है। बहरहाल उदाकिशुनगंज एसडीपीओ सतीश कुमार से लेकर मधेपुरा एसपी राजेश कुमार इस मामले में कैमरे पर कुछ भी बोलना मुनासिब नहीं समझ रहे हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramanjot

Related News

Recommended News

static