Bhabua Assembly Seat: भभुआ विधानसभा सीट के पिछले नतीजे II Bihar Election 2020

10/8/2020 1:55:34 PM

 

कैमूरः बिहार के 243 विधानसभा सीटों में से एक भभुआ विधानसभा सीट (Bhabua Assembly Seat) है। कैमूर जिले में स्थित यह विधानसभा क्षेत्र सासाराम लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत आता है।

बता दें कि इस सीट पर पहली बार साल 1957 में विधानसभा के चुनाव हुए और 1967 तक लगातार कांग्रेस (Congress) का ही कब्जा रहा। 1957 में इस सीट पर दो विधायक चुने गए। दुलार चंद राम और अलिवारिस खान। 1962 में श्याम नारायण पांडेय विधायक बने तो 1967 में एसएन पांडेय को जीत मिली। 1969 में इस सीट पर भारतीय जन संघ के चंद्रमौली मिश्रा को जीत मिली। 1972 में एक बार फिर से कांग्रेस (Congress) ने वापसी की और श्याम नारायण पांडेय विधायक चुने गए। 1977 में जनता पार्टी के शिव परीक्षा सिंह विधायक बने।

1980 में एक बार फिर से श्याम नारायण पांडेय विधायक चुने गए लेकिन इस बार वो कांग्रेस (Congress) इंदिरा की तरफ से चुनावी मैदान में थे। 1985 में कम्युनिष्ट पार्टी ऑफ इंडिया के राम लाल सिंह चुनाव जीते। 1990 में कांग्रेस ने फिर से वापसी की और प्रमोद सिंह चुनाव जीते। 1995 में कम्युनिष्ट पार्टी ऑफ इंडिया के राम लाल सिंह दोबारा चुनाव जीते। 2000 में राष्ट्रीय जनता दल के प्रमोद सिंह। 2005 के फरवरी में भी राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के डॉ. प्रमोद कुमार सिंह चुनाव जीते। 2005 के अक्टूबर में बहुजन समाज पार्टी (BSP) के रामचंद्र सिंह यादव विधायक (MLA) चुने गए। 2010 में इस सीट पर पहली बार लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) को जीत मिली और डॉ. प्रमोद कुमार सिंह चुनाव जीते। 2015 में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के आनंद भूषण पांडेय चुनाव जीते लेकिन उनके निधन के बाद भारतीय जनता पार्टी (BJP) की तरफ से उनकी पत्नी रिंकी रानी पांडेय विधायक चुनी गईं।

विधानसभा चुनाव 2015 के नतीजे
अब अगर आंकड़ों के हिसाब से बात करें तो साल 2015 के विधानसभा चुनाव (Vidhan Sabha Chunav) में इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) के आनंद भूषण पांडेय ने जनता दल यूनाइटेड (JDU) के डॉ. प्रमोद कुमार सिंह को 7 हजार 744 वोटों से हराया और विधायक (MLA) चुने गए। आनंद भूषण पांडेय को कुल 50 हजार 768 वोट मिले थे जबकि दूसरे नंबर पर रहे डॉ. प्रमोद कुमार सिंह को कुल 43 हजार 24 वोट मिले थे तो वहीं तीसरे स्थान पर रहे बहुजन समाज पार्टी (BSP) के भरत बिंद को कुल 29 हजार 983 वोट मिले थे।
PunjabKesari
विधानसभा चुनाव 2010 के नतीजे
वहीं 2010 में हुए विधानसभा चुनाव (Vidhan Sabha Chunav) के परिणामों पर नजर डालें तो इस सीट पर लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के डॉ. प्रमोद कुमार सिंह ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) के आनंद भूषण पांडेय को 447 वोटों से हराया और विधायक (MLA) चुने गए। डॉ. प्रमोद कुमार सिंह को कुल 31 हजार 246 वोट मिले थे जबकि दूसरे नंबर पर रहे आनंद भूषण पांडेय को कुल 30 हजार 799 वोट मिले थे तो वहीं तीसरे स्थान पर रहे बीएसपी (BSP) की विजया लक्ष्मी देवी को कुल 12 हजार 133 वोट मिले थे।
PunjabKesari
विधानसभा चुनाव 2005 के नतीजे
वहीं 2005 में हुए विधानसभा चुनाव (Vidhan Sabha Chunav) के परिणामों पर नजर डालें तो इस सीट पर बहुजन समाज पार्टी (BSP) के रामचंद्र सिंह यादव ने भारतीय जनता पार्टी के आनंद भूषण पांडेय को 5 हजार 828 वोटों से हराया और विधायक (MLA) चुने गए। रामचंद्र सिंह यादव को कुल 37 हजार 778 वोट मिले थे जबकि दूसरे नंबर पर रहे आनंद भूषण पांडेय को कुल 31 हजार 950 वोट मिले थे तो वहीं तीसरे स्थान पर रहे राजद (RJD) के डॉ. प्रमोद कुमार सिंह को कुल 28 हजार 438 वोट मिले थे।
PunjabKesari
पिछले 3 चुनाव परिणामों पर नजर डालें तो इस सीट पर किसी भी पार्टी का लगातार कब्जा नहीं रहा है। 2015 के चुनाव में बीजेपी (BJP) को जीत मिली थी जबकि जेडीयू दूसरे स्थान पर रही था। बता दें कि उस वक्त जेडीयू के साथ राजद (RJD) और कांग्रेस (Congress) का गठबंधन था। हालांकि इस बार बीजेपी (BJP) और जेडीयू (JDU) एक साथ चुनावी मैदान में है। ऐसे में आंकड़ों की बात करें तो NDA का पलड़ा थोड़ा भारी जरूर दिखाई दे रहा है लेकिन इस बार चुनाव काफी दिलचस्प होने वाला है क्योंकि कोरोना और बाढ़ की वजह से लोगों का गुस्सा भी सरकार के प्रति देखने को मिल रहा है। ऐसे में जीत किस पार्टी को मिलेगी यह कह पाना काफी मुश्किल है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Nitika

Recommended News

static