पाक की जेल से बक्सर लौटा 12 सालों से गायब छवि, जिस मां ने किया था अंतिम संस्कार वह बेटे को देख...

4/13/2022 5:50:57 PM

 

बक्सरः पिछले 12 सालों से गायब छवि मूसहर पाकिस्तान की जेल से अब बक्सर के चौसा प्रखंड के खिलाफतपुर आ गया। यहां आने के बाद चौसा प्रखंड के वीडियो एवं सीओ तथा थाना पर मौजूद कर्मियों के सामने छवि को परिजनों के हवाले किया गया। वहीं स्थानीय लोगों ने गुलदस्ता एवं गमछा भेंट कर छवि का स्वागत किया।
PunjabKesari
अंचलाधिकारी बृज बिहारी प्रसाद तथा प्रखंड विकास पदाधिकारी मोहम्मद असलम अंसारी ने बताया कि जिलेवासियों के लिए यह बेहद खुशी की बात है, जो पाकिस्तान से अटारी बॉर्डर के रास्ते भारत में लाने के लिए प्रखंड स्तरीय एवं जिला स्तरीय प्रशासनिक सहयोग रही। छवि के पहुंचने पर उसके परिजनों एवं महादलित बस्ती में जश्न का माहौल है। माता वृत्ति देवी एवं भाई रवि मूसहर ने बताया कि बेटे के आने से काफी खुशी मिली है। उसके आने की खुशी में घर में पूजा-पाठ की जा रही है। साथ ही यहां पूरे मोहल्लेवासियों को भोज दिया जाएगा। भाई रवि ने बताया कि मैंने पूजा की और 4 महीने पहले थाने द्वारा सूचना मिली कि मेरा भाई पाकिस्तान में है। भाई ने बताया कि छवि के जाने के बाद ही पत्नी ने 2 महीने बाद किसी दूसरे लड़के से शादी कर ली। अब हम लोग अपने भाई की फिर धूमधाम से शादी करेंगे।

पाकिस्तान जेल में छवि के साथ की गई मारपीट
वहीं छवि ने बताया कि मैं अपने पत्नी को ढूंढते हुए पाकिस्तान चला गया। वहां मुझे शुरू में जेल में मारा पीटा जाता था। छवि अब वापस घर आ गया है। इसको लेकर पूरे महादलित टोला में जश्न का माहौल है। थाने से छवि को लाने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। भारत माता की जय के नारों के साथ थाने से महादलित टोला तक छवि को ले जाया गया। जहां अपनों के बीच पहुंचने के बाद छवि एवं मोहल्ले वासी डीजे के धुन पर खुशी में झूमते दिखे।

12 साल पहले पत्नी से मिलने ससुराल गया था छवि
बता दें कि बीते 12 वर्ष पहले चौसा प्रखंड के खिलाफत पुर का निवासी छवि मुसहर अपनी मां से यह कहकर निकला था कि पत्नी से मिलने जा रहा हूं, जिसका ससुराल आरा था। उसका दिमागी संतुलन भी ठीक नहीं था, जिसकी वजह से चौसा स्टेशन से पंजाब के लिए ट्रेन पकड़ लिया। इसके बाद भटकते-भटकते वह पाकिस्तान चला गया, जहां पाकिस्तानी सेना ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।
PunjabKesari
परिजनों ने छवि का कर दिया था अंतिम संस्कार
इधर कई वर्ष बीत जाने के बाद जब छवि नहीं मिला तो परिजनों ने उसका अंतिम संस्कार भी कर डाला। पत्नी ने भी दूसरी शादी कर ली। वहीं पिछले 4 महीने पहले पाकिस्तान से विदेश मंत्रालय से सूचना मिली कि छवि मुसहर जो खिलाफतपुर का रहने वाला है, जिसकी पहचान स्थानीय थाना ने कर ली है। इसके बाद परिजनों में खुशी की लहर दौड़ गई। जिलाधिकारी अमन समीर एवं पुलिस अधीक्षक ने गुरदासपुर प्रशासन के द्वारा सूचना देने के बाद, कागजी कार्रवाई होने के पश्चात अटारी बॉर्डर के रास्ते उसे भारत लाया। छवि मुसहर को 12 अप्रैल को मुफस्सिल थाना मे लाकर कागजी कार्रवाई पूरी कर उसके परिजनों को सौंप दिया गया।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Nitika

Related News

Recommended News

static