जम्मू कश्मीर में आतंकवादी हताश, मजदूरों-व्यापारियों को बना रहे सॉफ्ट टारगेटः सुशील मोदी

4/5/2022 9:58:09 AM

पटनाः बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और भाजपा के राज्यसभा सदस्य सुशील मोदी ने पुलवामा में दो बिहारी मजदूरों पर हमला को दुखद बताया। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने के बाद से आतंकवादी हताश हैं इसलिए वे मजदूरों-व्यापारियों को सॉफ्ट टारगेट बना रहे हैं।

सुशील मोदी ने सोमवार को ट्वीट कर कहा कि जम्मू-कश्मीर में इस बार टूरिस्ट सीजन की अच्छी शुरुआत और श्रीनगर हवाईअड्डे से एक दिन में 90 उड़ानों के रिकॉर्ड ट्रैफिक से हताश आतंकवादियों ने पुलवामा में गोलीबारी कर बिहार के दो मजदूरों को जख्मी कर दिया। सुरक्षा बलों का एक जवान शहीद हुआ। यह दुखद है लेकिन अब वे मजदूर, छोटे व्यापारी और शिक्षक जैसे साफ्ट टार्गेट पर हमले की कायराना कार्रवाई से जम्मू-कश्मीर में शांति के साथ विकास की प्रक्रिया को रोक नहीं सकते।

Koo App
5 अगस्त 2019 से जम्मू-कश्मीर में धारा-370 को निष्प्रभावी करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऐतिहासिक निर्णय के मात्र ढाई साल बाद स्थिति बहुत अच्छी हुई है। ऐसे में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक माननीय मोहन भागवत का यह आकलन नई आशा का संचार करता है कि कश्मीरी पंडितों के घर लौटने का सही समय आ गया है।
 
- Sushil Kumar Modi (@sushilmodi) 4 Apr 2022

Koo App
जम्मू-कश्मीर में धारा-370 हटाने और अलगाववादी संगठनों पर सुरक्षा एजेंसियों का शिकंजा कसने के बाद से राज्य में पत्थरबाजी खत्म हुई और आतंकवादी हमले की घटनाएँ भी काफी कम हुई हैं। इस सीमावर्ती राज्य में दृढ़ राजनीतिक और प्रशासनिक इच्छाशक्ति के साथ आतंकवाद के ताबूत में आखिरी कीलें ठोंकी जा रही हैं।
 
- Sushil Kumar Modi (@sushilmodi) 4 Apr 2022


भाजपा सांसद ने कहा कि जम्मू कश्मीर में धारा-370 हटाने और अलगाववादी संगठनों पर सुरक्षा एजेंसियों का शिकंजा कसने के बाद से राज्य में पत्थरबाजी खत्म हुई और आतंकवादी हमले की घटनाएं भी काफी कम हुई हैं। उन्होंने कहा कि इस सीमावर्ती राज्य में द्दढ़ राजनीतिक और प्रशासनिक इच्छाशक्ति के साथ आतंकवाद के ताबूत में आखिरी कीलें ठोंकी जा रही हैं।

सुशील मोदी ने कहा कि 05 अगस्त 2019 से जम्मू कश्मीर में धारा 370 को निष्प्रभावी करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऐतिहासिक निर्णय के मात्र ढाई साल बाद स्थिति बहुत अच्छी हुई है। ऐसे में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत का यह आकलन नई आशा का संचार करता है कि कश्मीरी पंडितों के घर लौटने का सही समय आ गया है।

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramanjot

Related News

Recommended News

static