सुशील मोदी का RJD पर निशाना, कहा- एमवाई समीकरण और परिवार से नहीं निकल पा रहे बाहर

5/28/2022 9:57:53 AM

पटनाः बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने लालू प्रसाद यादव की पुत्री मीसा भारती और पूर्व विधायक फैयाज अहमद को राज्यसभा चुनाव के लिए उम्मीदवार बनाए जाने पर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की आलोचना की। उन्होंने कहा कि जो लोग ए टू जेड की पार्टी होने का दावा कर रहे हैं वह एमवाई (मुस्लिम-यादव) समीकरण और परिवार से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं।       

सुशील मोदी ने शुक्रवार को बयान जारी कर कहा कि राजद के लिए भ्रष्टाचार, परिवारवाद, नैतिकता तो कोई मुद्दा ही नहीं है। राजद परिवार से बाहर निकल ही नहीं सकता है। उन्होंने कहा कि परिवार में ही किसी दूसरी बहन को राज्यसभा का प्रत्याशी बना देते लेकिन भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप जिन पर हैं उन्हें पुन: राज्यसभा का उम्मीदवार बना दिया। भाजपा सांसद ने कहा कि राजद लाख ए टू जेड की बात कर ले लेकिन न तो वह माई से बाहर निकल सकता है और न ही परिवार से। उन्होंने कहा कि राज्यसभा में टिकट का मौका आया तो बाबा (शिवानंद तिवारी) और जगता बाबू (जगदानंद सिंह) को दरकिनार कर परिवार और माई को ही तरजीह मिली।

उप मुख्यमंत्री ने आगे कहा, ‘‘बाबा को नहीं बनाया तो समझ में आ सकता है क्योंकि लालू जी की दुर्दशा के लिए बाबा ही जिम्मेवार हैं लेकिन जगता बाबू जिन्होंने लालू जी के जेल जाने के बाद खडाऊं को ईमानदारी से संभाल कर रखा और जो पार्टी अध्यक्ष के रूप में बेहतर काम कर रहे हैं उन को अपमानित कर राज्यसभा नहीं भेजा।' भाजपा नेता ने कहा कि वर्ष 2020 के विधानसभा चुनाव में राजद ने 144 में 76 टिकट माई समीकरण को दिया। भूमिहार को एक और कुर्मी को भी मात्र एक टिकट दिया। वहीं, माई के एम को 18 और वाई को 58 टिकट दिए। उन्होंने कहा कि अब लालू परिवार के चार सदस्य संसद और विधानमंडल में है। राज्यसभा के छह में से तीन सदस्य जेल रिटर्न (अशफाक करीम, अमरेंद्र धारी सिंह) हैं, प्रेमचंद गुप्ता चार्जशीटेड हैं और बेल पर हैं तथा चार धन पशु हैं जिनकी योग्यता केवल धन है। मोदी ने कहा कि ऐसी पार्टी 15 साल सत्ता में थी तो लोगों ने देखा है और यदि पुन: गलती से लौट आए तो बिहार का क्या होगा।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramanjot

Related News

Recommended News

static