जकिया की याचिका पर आए फैसले के बाद रविशंकर प्रसाद ने विपक्षी दलों पर निशाना साधा

6/24/2022 9:30:51 PM

पटना, 24 जून (भाषा) भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने शुक्रवार को 2002 के गुजरात दंगों के मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विशेष जांच दल (एसआईटी) की क्लीन चिट को बरकरार रखने वाले उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत किया। साथ ही कहा कि पूर्वाग्रह एवं वैमनस्यता से ग्रसित होकर पिछले 20 वर्षों से लगातार साजिशें रच रही एक ‘कॉटेज इंडस्ट्री’ को करारा जवाब मिला है।

उच्चतम न्यायालय ने 2002 के गुजरात दंगा मामले में तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और 63 अन्य लोगों को विशेष जांच दल (एसआईटी) द्वारा क्लीन चिट दिए जाने को चुनौती देने वाली याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी। न्यायालय ने इसके साथ ही कहा कि इन आरोपों के समर्थन में पुख्ता तथ्य उपलब्ध नहीं हैं कि 2002 के गोधरा दंगों को गुजरात में सर्वोच्च स्तर पर रची गई आपराधिक साजिश के कारण पूर्व-नियोजित घटना कहा जाए।

यह याचिका गुजरात दंगों में मारे गए कांग्रेस नेता एहसान जाफरी की पत्नी जकिया जाफरी ने दायर की थी।
पटना साहिब लोकसभा क्षेत्र से सांसद प्रसाद ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि जकिया जाफरी की याचिका के मामले में देश की सर्वोच्च अदालत का जो ऐतिहासिक फैसला आया है, उसने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ रची गई साजिशों को एक बार फिर बेनकाब कर दिया है।

उन्होंने कहा, ‘‘सच्चाई की हमेशा जीत होती है। अब विपक्षी दल अपनी नफरत की दुकानें बंद कर देंगे जो वे पिछले 20 वर्षों से नरेंद्र मोदी के खिलाफ चला रहे थे।’’
उन्होंने आरोप लगाया कि पूर्वाग्रह से ग्रस्त होकर कांग्रेस द्वारा नियुक्त आयोगों, मीडिया संस्थानों, कथित विभिन्न राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय गैर-सरकारी संगठनों सहित उच्चतम न्यायालय द्वारा नियुक्त एसआईटी द्वारा पिछले 20 वर्षों से नरेंद्र मोदी के खिलाफ 60 से अधिक जांच की गईं।

भाजपा नेता ने कहा, ‘‘आज मैं कांग्रेस, वामपंथी दलों, तथाकथित ‘लिबरल गैंग्स’ और ‘कॉटेज इंडस्ट्री’ से पूछना चाहता हूं कि आपने 20 वर्षों से नरेंद्र मोदी के विरोध के नाम पर अपनी दुकान चला रखी है। हर बार आप अपने नापाक इरादों में असफल हुए हैं और कितने दिन आप झूठ की दुकान चलाएंगे?’’

यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News

static