बिहार में अब किसी भी आपात स्थिति में तुरंत मिलेगी मदद, CM नीतीश ने किया Dial 112 का लोकार्पण

7/7/2022 10:40:47 AM

पटनाः बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को नागरिकों की विभिन्न आपात स्थितियों से निपटने के लिए एकल आपातकालीन नंबर 112 वाले अत्याधुनिक एकीकृत आपातकालीन मोचन सहयोग प्रणाली (ईआरएसएस) के कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का लोकार्पण किया और उसके तहत पीड़ित व्यक्ति को सहायता उपलब्ध कराने के लिए 400 इमरजेंसी रिस्पॉन्स वाहनों को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

PunjabKesari

लोकार्पण के बाद मुख्यमंत्री नीतीश ने इस केंद्र का निरीक्षण किया और वहां की व्यवस्थाओं एवं कार्य प्रणाली की जानकारी ली। उस दौरान वरीय पुलिस अधिकारियों ने बताया कि किसी भी प्रकार की आपातकालीन स्थिति जैसे अपराध की घटना, आगजनी, वाहन दुर्घटना की स्थिति या महिला, बच्चों एवं वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा से संबंधित बात हो तो बिहार के किसी भी कोने से कोई भी व्यक्ति एकल नंबर 112 पर निःशुल्क कॉल कर सकता है। अधिकारियों के लिए पटना 24 घंटे कार्यरत इस केंद्र में सभी कॉल आएंगे और आवश्यकतानुसार पीड़ित व्यक्ति को सहायता उपलब्ध कराने के लिए 15-20 मिनट के अंदर इमरजेंसी रिस्पॉन्स वाहन घटना स्थल पर भेज दिए जाएंगे। प्रत्येक गाड़ी में आधुनिक कैमरे, जीपीएस इत्यादि लगाए गए हैं जिससे घटनास्थल पर पहुंचने के बाद घटनास्थल का फोटोग्राफ एवं वीडियो लेने का प्रावधान किया गया है एवं इसे पटना स्थित कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर में भेजा जाता है।

PunjabKesari

अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि प्रथम चरण में 400 इमरजेंसी रिस्पॉन्स गाड़ियां क्रय की गई है। पटना जिले के सभी निर्धारित स्थलों और अन्य जिलों के जिला मुख्यालय एवं अन्य महत्वपूर्ण स्थानों पर इन गाड़ियों को तैनात करने की व्यवस्था की गई है। इस परियोजना के प्रथम चरण पर 176 करोड़ रूपए की लागत आई है।अगले चरण में बिहार के सभी क्षेत्रों को कवर किए जाने की योजना है जिस पर कार्य भी शुरू हो चुका है। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि दूसरे चरण के लिए जितनी अतिरिक्त गाड़ियों और मानव बल की आवश्यकता है उसकी अविलंब व्यवस्था कराएं। उनका कहना था कि साथ ही गाड़ियों के अलावे 500 मोटरसाईकिलें भी रखी जाएं, जिससे कार्यक्षमता और दक्षता और बेहतर हो सकेगी। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि इस बात का ध्यान रखा जाए कि सभी कॉल्स का सही तरीके से निर्धारित समय में निष्पादन हो और लोगों को ससमय सहायता मिले, इससे लोगों का पुलिस और प्रशासन पर भरोसा और बढ़ेगा। उनका कहना था कि वरीय पदाधिकारी इसकी लगातार मॉनिटरिंग करते रहें ताकि लोगों को किसी प्रकार की कोई समस्या न हो।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramanjot

Related News

Recommended News

static