हफीजुल हसन के शपथ ग्रहण पर असम के CM हिमंता बिस्वा ने उठाए सवाल तो JMM ने किया पलटवार

7/9/2024 4:11:46 PM

रांची: हेमंत कैबिनेट के विस्तार में हफीजुल हसन अंसारी के शपथ ग्रहण पर राजनीतिक सियासत काफी तेज हो गई है। झारखंड की बीजेपी हफीजुल हसन अंसारी के शपथ ग्रहण पर सवाल उठा रही है। वहीं, असम के मुख्यमंत्री और झारखंड में चुनाव प्रभारी हिमंता बिस्वा सरमा ने भी हफीजुल हसन अंसारी पर हमला बोला है, जिसके बाद झामुमो ने इस पर पलटवार किया है।

झामुमो ने सोशल मीडिया एक्स पर लिखा कि इतना मत नीचे गिरिये हिमन्ता जी। अपनी नफरती राजनीति चमकाने के लिए समाज को मत तोड़िये। देश अभी कुछ दिन पहले ही आपकी नफ़रती राजनीति नकार चुकी है। झामुमो ने अपने सोशल मीडिया एक्स पर 2 पेपर कटिंग शेयर की है। एक कटिंग में शपथ लेने नियम क्या है, सुप्रीम कोर्ट इस पर क्या कहती है। यह लिखा है। झामुमो ने लिखा, "भगवान/ईश्वर/अल्लाह/ईसू के नाम पर ही तो शपथ हुआ तो इसमें आपको तकलीफ़ क्या है? आपके केंद्र में एक मंत्री ने तो बिना भगवान का नाम लिये शपथ लिया - तो वहां चुप क्यों बैठ गये, हल्ला क्यों नहीं मचाया? दूसरा - संविधान में शपथ के नियमों को ध्यान से पढ़ लीजिए एक बार। पर आप तो बाबा साहब के संविधान को मानते ही नहीं है, आप तो उसे खत्म करना चाहते हैं ना?"

दरअसल, असम के मुख्यमंत्री और झारखंड में चुनाव प्रभारी हिमंता बिस्वा सरमा ने सोमवार को हफीजुल हसन अंसारी के शपथ ग्रहण का वीडियो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म (एक्स) पर पोस्ट करते हुए लिखा था कि झारखंड राज्य में मंत्री ऐसे शपथ लेते हैं। हम चुप नहीं बैठेंगे। वहीं, बता दें कि झारखंड में बीते सोमवार को हेमंत सोरेन सरकार ने बहुमत साबित करने के बाद मंत्रिमंडल का गठन भी किया। राजभवन में 11 मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई गई। इसमें मंत्री हफीजुल हसन की शपथ को लेकर विवाद खड़ा हो गया। जब उनको शपथ दिलाने के लिए बुलाया गया तो उन्होंने शपथ की शुरुआत ही बिस्मिल्लाह के साथ में की। इस पर भारतीय जनता पार्टी के विधायकों ने आपत्ति जताई है। इतना ही नहीं, राष्ट्रगान के समय उनके कपड़े सही करने का वीडियो भी खूब तेजी से वायरल हो रहा है। शपथ के दौरान उन्होंने बिस्मिल्लाह रहमानिर रहीम कहा। बीजेपी ने इस पर नाराजगी जताते हुए इसे असंवैधानिक बताया, जिसके बाद बीजेपी नेताओं ने राज्यपाल से राजभवन जाकर मुलाकात की और ज्ञापन सौंपा। बीजेपी ने राज्यपाल से अपील करते हुए कहा कि उन्हें पदभार ग्रहण न करने दिया जाए।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

Khushi

Related News

static