CM नीतीश ने 'समाधान यात्रा' के दौरान भागलपुर में की समीक्षात्मक बैठक

2/11/2023 5:57:36 PM

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने समाधान यात्रा के क्रम में भागलपुर जिले में विभिन्न विभागों द्वारा चलाए जा रहे विकास योजनाओं की प्रगति के संबंध में समाहरणालय स्थित सभाकक्ष में जिला स्तरीय समीक्षात्मक बैठक की। इस समीक्षात्मक बैठक में भागलपुर जिले के सांसदगण, विधान पार्षदगण एवं विधायकगण तथा विभिन्न विभागों के अपर मुख्य सचिव/ प्रधान सचिव/ सचिव शामिल हुए।
PunjabKesari
जनप्रतिनिधियों ने CM के समक्ष अपने-अपने क्षेत्र की रखीं समस्याएं 
बैठक में भागलपुर के जिलाधिकारी सुब्रत कुमार सेन ने प्रस्तुतीकरण के माध्यम से जिले में चल रही विभिन्न विकास योजनाओं के संबंध में मुख्यमंत्री को विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने अपने प्रस्तुतीकरण में हर घर नल का जल, हर घर तक पक्की गली-नालियां, बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना, मुख्यमंत्री निश्चय स्वयं सहायता भत्ता योजना/ कुशल युवा कार्यक्रम, सात निश्चय-1 के तहत जिले में निर्माण किए जाने वाले भवनों की स्थिति, पॉलिटेक्निक संस्थानों में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना एवं औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना के संबंध में जानकारी दी। साथ ही मत्स्य संसाधन का विकास जननायक कर्पूरी ठाकुर छात्रावास योजना (अति पिछड़ा वर्ग हेतु) एवं हर खेत तक सिंचाई का पानी सहित अन्य योजनाओं के संबंध में भी मुख्यमंत्री को विस्तृत जानकारी दी गयी। जिला स्तरीय समीक्षात्मक बैठक में शामिल जनप्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री के समक्ष अपने-अपने क्षेत्र की समस्याएं रखीं। जनप्रतिनिधियों की समस्याओं के यथाशीघ्र समाधान हेतु मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया।
PunjabKesari
"बिहार में 10 लाख से अधिक स्वयं सहायता समूहों का हो चुका गठन"
बैठक में मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि हर घर नल का जल योजना का लाभ नई बसावटों एवं नवनिर्मित मकानों के निवासियों तक पहुंचाएं। यदि कोई घर छूट गया हो तो उसे भी चिन्हित कर नल-जल की सुविधा लोगों को उपलब्ध करायें। हम लोगों ने स्वयं सहायता समूह से जुड़ी महिलाओं का नामकरण जीविका किया, जो जीविका दीदी के नाम से जानी जाती हैं। बिहार में जब हमें काम करने का मौका मिला उस समय यहां स्वयं सहायता समूहों की संख्या काफी कम थी। इसे बढ़ाने का निर्णय लिया गया और अब बिहार में 10 लाख से अधिक स्वयं सहायता समूहों का गठन हो चुका है।
PunjabKesari
"जो ओरिजनल चीजें हैं उसका करें उपयोग"
मुख्यमंत्री ने कहा कि नई तकनीक का इस्तेमाल आप जरूर करें, लेकिन जो ओरिजनल चीजें हैं उसका भी उपयोग करें। हमने अस्पतालों एवं सरकारी कार्यालयों में लैंडलाइन टेलीफोन सेट लगावाया है ताकि ड्यूटी पर तैनात लोगों की उपस्थिति के बारे में सही जानकारी मिल सके। चिकित्सा से कोई वंचित न रहे इसके लिये टेलीमेडिसिन की सुविधा उपलब्ध करायी गयी गई है। आज कल ट्विटर के माध्यम से अधिकारी स्तर के लोग भी अपने आपसी विवाद को साझा करते हैं, यह गलत है। इसके लिये संविधान के तहत जो प्रावधान किये गये हैं उसी के अनुरूप अपनी बातें रखनी चाहिये। आपसी विवाद को मिल बैठकर सुलझाना चाहिये या अपने वरीय अधिकारियों के पास अपनी बातें रखनी चाहिये। ऐसे मामले में ट्वीट करने का कोई मतलब नहीं है। भागलपुर में इंजीनियरिंग कॉलेज काफी पहले बना हुआ है। उसका हमने स्थल निरीक्षण भी किया है और एरियली भी देख चुके हैं। गंगा नदी के किनारे प्रोटेक्शन बहुत जरूरी है। गंगा नदी के जलस्तर में वृद्धि होने पर जो इलाके बाढ़ या जलजमाव से प्रभावित होते हैं, वहां के लोग सुरक्षित रहें इसको ध्यान में रखते हुए कार्य सुनिश्चित करायें। भागलपुर के जिलाधिकारी सुब्रत कुमार सेन ने मुख्यमंत्री को स्मृति चिन्ह भेंटकर उनका अभिनंदन किया।
PunjabKesari
"यात्रा के दौरान लोगों से मिलकर मुझे काफी खुशी होती है"
समीक्षा बैठक के पश्चात् पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की प्रगति और आगे क्या करने की जरूरत है, उसे देखने के लिए हम लोग समाधान यात्रा पर निकले हैं। यात्रा के दौरान लोगों से मिलकर मुझे काफी खुशी होती है। भागलपुर से हमारा रिश्ता काफी पुराना है। जे०पी० आंदोलन के समय जेल में हम यहीं बंद थे। यहां हम लोग बराबर आते रहे हैं। सभी जगहों पर जाकर देखते रहे हैं। आज भी हमने कुछ जगहों पर जाकर योजनाओं का निरीक्षण किया है। समीक्षा बैठक में सभी चीजों को लेकर पूरी चर्चा हुई है। अगर कही पर कोई दिक्कत है तो उसको लेकर भी चर्चा हुई है। वर्षापात के समय गंगा नदी के किनारे के इलाकों में लोगों को परेशानी होती है। बाढ़ के समय हम लोग हर साल जायजा लेने आते हैं। हमने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि गंगा नदी के दोनों तरफ तेजी से काम पूरा करें। इसको लेकर हम लोग लगातार कोशिश कर रहे हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

Khushi

Related News

static