भारत में सबसे तेज टीकाकरण का एक वर्ष पूरा होने पर सुशील मोदी ने प्रधानमंत्री को दी बधाई

1/17/2022 10:22:20 AM

पटनाः बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने सबसे तेज टीकाकरण का एक वर्ष पूरा होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी।

सुशील मोदी ने रविवार को ट्वीट कर कहा कि 130 करोड़ की बड़ी आबादी वाले भारत में 157 करोड़ डोज लगाकर सबसे तेज कोरोना टीकाकरण का पहला जीवन रक्षक वर्ष पूरा होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, चिकित्सा विज्ञानियों, डाक्टरों औरफ्रंटलाइन वर्कर्स को बधाई। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने स्वदेशी टीका विकसित करने के लिए टास्क फोर्स बनाया, वैक्सीन निर्माण संबंधी बाधाएं 15 दिन में दूर कीं और टीका बनाने में लगे प्रतिष्ठानों का दौरा कर वैज्ञानिकों का उत्साह बढ़ाया। यदि पीएम ने ऐसे कदम न उठाए होते, तो हमें वैक्सीन के लिए दूसरे देशों के आगे हाथ फैलाना पड़ता, टीकाकरण में देरी होती और खर्च भी अधिक करना पड़ता।

Koo App
१/२. प्रधानमंत्री ने स्वदेशी टीका विकसित करने के लिए टास्क फोर्स बनाया, वैक्सीन निर्माण संबंधी बाधाएँ 15 दिन में दूर कीं और टीका बनाने में लगे प्रतिष्ठानों का दौरा कर वैज्ञानिकों का उत्साह बढ़ाया। यदि पीएम ने ऐसे कदम न उठाये होते, तो हमें वैक्सीन के लिए दूसरे देशों के आगे हाथ फैलाना पड़ता, टीकाकरण में देरी होती और खर्च भी अधिक करना पड़ता।
- Sushil Kumar Modi (@sushilmodi) 16 Jan 2022
Koo App
कोरोना से लड़ने के लिए जब देश व्यापक और मुफ्त टीकाकरण अभियान चला रहा था, तब कांग्रेस, राजद और सपा जैसे दल वायरस से नहीं, भाजपा और प्रधानमंत्री मोदी को नीचा दिखाने की लड़ाई लड़ रहे थे। कोवैक्सीन, कोविशील्ड को भाजपा का टीका बता कर जनता का भरोसा तोड़ने और विदेशी दवा कंपनियों की मदद करने की कोशिश की गई।
- Sushil Kumar Modi (@sushilmodi) 16 Jan 2022

भाजपा सांसद ने कहा कि कोरोना से लड़ने के लिए जब देश व्यापक और मुफ्त टीकाकरण अभियान चला रहा था, तब कांग्रेस, राजद और सपा जैसे दल वायरस से नहीं, भाजपा और प्रधानमंत्री मोदी को नीचा दिखाने की लड़ाई लड़ रहे थे। कोवैक्सीन, कोविशील्ड को भाजपा का टीका बता कर जनता का भरोसा तोड़ने और विदेशी दवा कंपनियों की मदद करने की कोशिश की गई।

मोदी ने आरोप लगाया कि कोरोना काल में कांग्रेस शासित राज्यों ने टीकाकरण करने में आनाकानी की और लाखों डोज की बर्बादी से मौत का आंकड़ा बढ़ा कर भारत को बदनाम तक करने की भी कोशिश की। उन्होंने कहा कि विपक्ष के सारे दुष्चक्र भेद कर भारत ने 278 दिनों में 100 करोड़ डोज लगाने, एक दिन में 1 करोड़ डोज और 66 करोड़ देशवासियों को दोनों डोज लगाने के साथ 97 देशों को 11.54 करोड़ डोज उपलब्ध कराने जैसे कीर्तिमान बनाने में सफल रहा। कोरोना विपदा काल में प्रधानमंत्री मोदी जनता के साथ मजबूती से खड़े रहे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramanjot

Related News

Recommended News

static