Buxar Assembly Seat: बक्सर विधानसभा सीट के पिछले नतीजे II Bihar Election 2020

10/12/2020 1:54:56 PM

 

बक्सरः बिहार के 243 विधानसभा सीटों में से एक बक्सर विधानसभा सीट (Buxar Assembly Seat) है। बक्सर जिले में स्थित यह विधानसभा क्षेत्र बक्सर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत आता है।

बता दें कि यह सीट साल 1951 से अस्तित्व में है। इस सीट पर साल 1951 में पहली बार चुनाव हुए और कांग्रेस के लक्ष्मीकांत तिवारी विधायक चुने गए। इसके बाद 1957 और 1962 में भी इस सीट पर कांग्रेस का ही कब्जा रहा। 1957 में शिव कुमार ठाकुर और 1962 में जगनारायण त्रिवेदी विधायक चुने गए। 1967 में संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के पी चटर्जी विधायक (MLA) बने। इसके बाद 1969 से लेकर 1980 तक जगनारायण त्रिवेदी लगातार 4 बार विधायक चुने गए, जिसमें 3 बार कांग्रेस (Congress) और 1980 में चौथी बार कांग्रेस (Congress) इंदिरा के टिकट पर चुनाव जीते। 1985 में भी इस सीट पर कांग्रेस (Congress) का ही कब्जा रहा और श्रीकांत पाठक विधायक चुने गए। 1990 और 1995 में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की तरफ से मंजू प्रकाश विधायक चुनी गईं। 2000 और 2005 के फरवरी में हुए चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की टिकट प्रो. सुखदा पांडेय विधायक चुनी गईं, जबकि 2005 के अक्टूबर में हुए चुनाव में बहुजन समाज पार्टी (BSP) के हृदय नारायण सिंह विधायक बने। 2010 में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की तरफ से प्रो. सुखदा पांडे एक बार फिर से विधायक (MLA) चुनी गईं, जबकि 2015 में कांग्रेस (Congress) के संजय कुमार तिवारी विधायक चुने गए।

विधानसभा चुनाव 2015 के नतीजे
अब अगर आंकड़ों के हिसाब से बात करें तो साल 2015 के विधानसभा चुनाव (Vidhan Sabha Chunav) में इस सीट पर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के संजय कुमार तिवारी ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रदीप दुबे को 10 हजार 181 वोटों से हराया और विधायक (MLA) चुने गए। संजय कुमार तिवारी को कुल 66 हजार 527 वोट मिले थे, जबकि दूसरे नंबर पर रहे प्रदीप दुबे को कुल 56 हजार 346 वोट मिले थे तो वहीं तीसरे स्थान पर रहे बहुजन समाज पार्टी (BSP) के सरोज कुमार राजभर को कुल 15 हजार 298 वोट मिले थे।
PunjabKesari
विधानसभा चुनाव 2010 के नतीजे
वहीं 2010 में हुए विधानसभा चुनाव (Vidhan Sabha Chunav) के परिणामों पर नजर डालें तो इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) की प्रो. सुखदा पांडे ने राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के श्यामलाल सिंह कुशवाहा को 20 हजार 183 वोटों से हराया और विधायक (MLA) चुनी गईं। प्रो. सुखदा पांडे को कुल 48 हजार 62 वोट मिले थे, जबकि दूसरे नंबर पर रहे श्यामलाल सिंह कुशवाहा को कुल 27 हजार 879 वोट मिले थे तो वहीं तीसरे स्थान पर रहे बहुजन समाज पार्टी (BSP) के कुंवर विजय सिंह को कुल 12 हजार 643 वोट मिले थे।
PunjabKesari
विधानसभा चुनाव 2005 के नतीजे
वहीं 2005 में हुए विधानसभा चुनाव (Vidhan Sabha Chunav) के परिणामों पर नजर डालें तो इस सीट पर बहुजन समाज पार्टी (BSP) के हृदय नारायण सिंह ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) की प्रो. सुखदा पांडे को 1 हजार 27 वोटों से हराया और विधायक (MLA) चुने गए। हृदय नारायण सिंह को कुल 46 हजार 192 वोट मिले थे, जबकि दूसरे नंबर पर रहीं प्रो. सुखदा पांडे को कुल 45 हजार 165 वोट मिले थे तो वहीं तीसरे स्थान पर रहे लोजपा (LJP) के शिव कुमार शर्मा को कुल 3 हजार 656 वोट मिले थे। पिछले 3 चुनाव परिणामों पर नजर डालें तो इस सीट पर किसी एक पार्टी का कब्जा नहीं रहा है।
PunjabKesari
पिछली बार राजद-कांग्रेस और जदयू एक साथ चुनाव लड़ी थी तो इस सीट पर कांग्रेस (Congress) को जीत मिली थी। इस बार जदयू (JDU) एक बार फिर से बीजेपी के साथ चुनावी मैदान में है ऐसे में किसका पलड़ा भारी है यह कह पाना काफी मुश्किल होगा, हालांकि इस बार चुनाव काफी दिलचस्प होने वाला है, क्योंकि कोरोना और बाढ़ की वजह से जहां एक ओर लोगों का गुस्सा सरकार के प्रति देखने को मिल रहा है तो वहीं विपक्ष भी इस मुद्दे को सही से उठा रही है। अब देखना होगा कि इस बार के चुनाव में किस पार्टी को जनता का साथ मिलता है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Nitika

Recommended News

static