हड़ताल पर रहे धरती के भगवान, RIMS में 700 से अधिक मरीजों की नहीं कटी पर्ची

3/9/2021 6:43:25 PM

रांची: झारखण्ड के सबसे बड़े हॉस्पिटल राजेंद्र आयुर्विज्ञान संस्थान (RIMS) के जूनियर डॉक्टर मंगलवार को अपनी बकाया एरियर भुगतान की मांग को लेकर पूरी तरह से हड़ताल पर रहे। यहां के लगभग 10 OPD विभाग में इलाज पूरी तरह ठप रहा। सीनियर डॉक्टर कोशिश भी करते तो जूनियर डॉक्टर बंद करा देते। धरती के भगवान कहे जाने वाले डॉक्टरों की नाराजगी का आलम यह रहा कि रजिस्ट्रेशन काउंटर तक बंद रहे। जिसका खामियाजा यह था कि 700 से अधिक मरीजों की पर्ची तक नहीं कट सकी।

इमरजेंसी में किया गया लगभग 500 मरीजों का इलाज
बता दें कि गंभीर अवस्था में पहुंचने वाले मरीजों का इमरजेंसी में पर्ची काट कर इलाज किया गया। वहीं लगभग 500 मरीजों का इलाज इमरजेंसी में किया गया। डॉक्टर के हड़ताल के कारण राज्य के अलग-अलग जिलों से यहां इलाज के लिए आने वाले बच्चे-बुजुर्गों को परेशानियों का सामना करना पड़ा।

सरकार पर दबाव बनाना चाहते हैं जूनियर डॉक्टर: प्रवक्ता  
रिम्स के प्रवक्ता डॉक्टर डीके सिन्हा के अनुसार जूनियर डॉक्टर सरकार पर दबाव बनाना चाहते हैं इसलिए OPD बायकॉट किए हैं। सीनियर डॉक्टर OPD में हैं। जब उन्हें OPD खाली होने के विषय में अवगत कराया गया तो उन्होंने कहा कि पता करके बताते हैं कि क्यों खाली है।

PunjabKesari
इलाज तो दूर मरीजों की नहीं कटी पर्ची
आयुषी के ढाई साल के बेटे अयांश के कान से खून निकल रहा है। उसी का इलाज कराने रिम्स पहुंची हैं लेकिन इलाज तो दूर उनकी पर्चा तक नहीं कटी। वहीं चतरा के रहने वाले 70 साल के हरि यादव दर्द से कराहते रहे, उनकी आवाज तक नहीं निकल रही थी। रिम्स में ही उनके गले का ऑपरेशन हुआ था। मंगलवार को उन्हें डॉक्टर की तरफ से बुलाया गया था। वह सुवह 6 बजे से डॉक्टर का इंतजार करते रहे लेकिन उन्हें बताया गया कि डॉक्टर हड़ताल पर हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Umakant yadav

Related News

Recommended News

static