तेजस्वी ने ‘दिल की बात'' में नीतीश सरकार पर लगाए आरोप, कहा- बिहार विकास के सभी पैमाने पर फिसड्डी

4/21/2022 10:14:01 AM

पटनाः बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष एवं राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने प्रदेश की नीतीश सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि पिछले 17 वर्ष में प्रदेश विकास के सभी पैमानों पर फिसड्डी बना हुआ है।

तेजस्वी यादव ने बुधवार को सोशल नेटवकिर्ंग फेसबुक पर ‘दिल की बात' शीर्षक से लिखे पोस्ट में कहा, आए दिन यह पढ़कर दु:ख और हैरानी होती है कि लगातार 17 वर्षों से नीतीश-भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार होने के बावजूद नीति आयोग, राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (एनआरएचएम), राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम), सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई), राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी), नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) एवं अन्य मानक संस्थाओं की रिपोर्ट तथा सूचकांकों में बेरोजगारी, गरीबी, पलायन, भ्रष्टाचार, शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, उद्योग और विधि व्यवस्था सहित अन्य क्षेत्रों में बिहार देश का सबसे फिसड्डी राज्य है।''

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि दु:ख तो तब होता है जब बिहार जैसे गरीब और पिछड़े राज्य की भाजपा नीत डबल इंजन सरकार समृद्धि, विकास और जनता की समस्याओं का समाधान निकालने की बजाय प्रदेश में अपनी साम्प्रदायिक, जातिवादी और विषैली राजनीति करने से बाज नहीं आती। सरकार में बैठे लोगों को राज्य के उत्थान, समृद्धि, शांति और विकास के लिए सोचना चाहिए तो इसके उलट ये लोग राज्य में ही साम्प्रदायिक और जातीय आग लगाने में लगे हैं ताकि लोग आपसी घृणा में एक दूसरे से नफरत करे, बदले की आग में सुलगते रहें तथा किसी का ध्यान सरकार की नाकामी और नाकारेपन पर ना जाए।

तेजस्वी यादव ने कहा कि लोग बेरोजगारी, गरीबी, भ्रष्टाचार, शिक्षा-स्वास्थ्य सुविधाओं की बदहाली, अपराध, किसानों, युवाओं छात्रों की अनदेखी जैसे मूल प्रश्नों पर सवाल नहीं पूछें और ये सत्तारूढ़ दल समाज में अपने ही द्वारा लगाई आग में अपनी सियासी रोटी सेंकते रहें। उन्होंने कहा कि बिहार में 17 वर्षों से सरकार चला रहे राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक दल कभी लोगों का भला नहीं सोचेंगे। इस बात को भली भांति समझकर अब बिहारवासियों को ही स्वयं अपना भला-बुरा सोचना होगा।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramanjot

Related News

Recommended News

static