लालू यादव को सजा सुनाए जाने के बाद सुशील मोदी बोले- यह तो होना ही था, किसी को नहीं हुआ आश्चर्य

2/21/2022 2:57:06 PM

पटनाः बिहार के बहुचर्चित चारा घोटाले के सबसे बड़े मामले आरसी 47ए/96 में सीबीआई की विशेष अदालत ने आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद को पांच साल की सजा और 60 रुपए जुर्माना की सजा सुनाई। कोर्ट के इस फैसले के पूर्व मुख्यमंत्री एवं राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

Koo App
1996 के चारा घोटाला मामले में तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद पर जब पहला अभियोग पत्र दायर हुआ, तब केंद्र में भाजपा नहीं, कांग्रेस के समर्थन वाली देवगौड़ा सरकार थी। जब लालू प्रसाद को इस मामले में पहली बार सजा हुई, तब भी भाजपा नहीं, मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार थी। अदालत और जज किसी दल के नहीं होते, फिर भी राजद एक झूठ को बार-बार बोलता रहा।
 
- Sushil Kumar Modi (@sushilmodi) 21 Feb 2022


सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट कर लिखा, "लालू यादव को 5 साल की सजा और 60 लाख के जुर्माने से किसी को आश्चर्य नहीं हुआ। यह तो होना था। लालू जी का चार्जशीट देवगौड़ा जी के समय और पहली सजा मनमोहन सिंह जी के समय हुआ। फिर भी फंसा दिया गया यही राग अलापा जाएगा।"

 


बता दें कि रांची स्थित सीबीआई के विशेष न्यायाधीश एसके शशि की अदालत ने आज लालू प्रसाद समेत अन्य अभियुक्तों के सजा के बिन्दु पर सुनवाई करते हुए यह सजा सुनाई। इससे पहले रांची के डोरंडा कोषागार से 139.35 करोड़ अवैध निकासी मामले में अदालत ने 15 फरवरी को लालू प्रसाद समेत 75 आरोपियों को दोषी करार दिया था, इसमें से 41 को छोड़ कर अन्य को पहले ही सजा सुना दी गई थी, जबकि तीन आरोपी उस दिन अदालत में सशरीर उपस्थित नहीं हो पाए थे।

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Ramanjot

Related News

Recommended News

static